Categories
शेर

कभी रहा ना

वह तेरे साथ या फिर बाद का ज़माना था

कभी रहा ना मुझे इख़्तियार ऐ महबूब

Latest posts by चित्रेन्द्र स्वरूप राजन (see all)