Categories
शेर

क्या मसरूफी़ है

आप सुनते नहीं ऐसी भी क्या मसरूफी़ है

कर गया गर में हदें पार तभी समझोगे

Latest posts by चित्रेन्द्र स्वरूप राजन (see all)