Categories
शेर

मंजिले- मोहब्बत

जो जीतने को चला मंजिले- मोहब्बत को

कफ़न है सर पे तो वो जीत हार क्या जाने

Latest posts by चित्रेन्द्र स्वरूप राजन (see all)