Categories
शेर

मेरी थी परंतु

कुछ दूर ही तो चाहा मेरी थी परंतु मैं

ता ज़िंदगी मैं उसको ही खोजा किये रहा

Latest posts by चित्रेन्द्र स्वरूप राजन (see all)