Categories
शेर

शोख़ हसीं पर बारिश

बूंदे सावन की जलाती हैं बदन रह-रहकर

जब बरसती है किसी शोख़ हसीं पर बारिश

Latest posts by चित्रेन्द्र स्वरूप राजन (see all)