Categories
शेर

हाय किस्मत

आग में पकने को रखे ही थे मिट्टी के ज़रूफ़

हाय किस्मत की हुई ख़ूब वहीं पर बारिश

Latest posts by चित्रेन्द्र स्वरूप राजन (see all)