Categories
शेर

हादसा ये भी ज़माने से छुपाया

अश्क जब आंख की दहलीज पे आया होगा हादसा ये भी ज़माने से छुपाया होगा नाम पर अब भी निकलते हुए आंसू होंगे कौन कहता है मुझे उसने भुलाया होगा

Categories
शेर

रातों को अभी

काली रातों को अभी धूम मचा लेने दो सुबह ख़ुर्शीद निकलते ही निगल जाएगा

Categories
शेर

मेरा है तो

किसने बोला कि मैं इस खेल से हट जाऊंगा मरते मरते भी मैं बाजी़ को पलट जाऊंगा जिस्म लोहे का मेरा है तो वो दुश्मन के लिए दोस्तों के लिए मैं फूल से कट जाऊंगा

Categories
शेर

मेरी थी परंतु

कुछ दूर ही तो चाहा मेरी थी परंतु मैं ता ज़िंदगी मैं उसको ही खोजा किये रहा

Categories
शेर

बहका रही हैं ख़्वाबों

रोती है ख़ूं के अश्क ये अखियां मैं क्या करूं बहका रही हैं ख़्वाबों की परियां मैं क्या करूं शोलों की तलाश शरर भी नहीं मिला रिश्तों का सर्द सर्द बियाबां मैं क्या करूं

Categories
शेर

हाथ में शराब न हो

घटाएं झूमती हों हाथ में शराब न हो ख़ुदा करे कि किसी का भी ऐसा ख़्वाब ना हो

Categories
शेर

जहां प्यास वहीं पर बारिश

झूम के गिरती है गिरने दो ज़मीं पर बारिश काश हो जाए जहां प्यास वहीं पर बारिश

Categories
शेर

ज़ख़्मों के निशान

साजि़श ज़रूर है किसी अपने की यहां पर ज़ख़्मों के निशान जब मेरे दिल पर भी मिले हैं

Categories
शेर

थपकियां

जब तसव्वुर दे रहा है थपकियां क्यों ख़याले-ख़ाम की बातें करें

Categories
शेर

शोख़ हसीं पर बारिश

बूंदे सावन की जलाती हैं बदन रह-रहकर जब बरसती है किसी शोख़ हसीं पर बारिश